एक शेर प्रेमियों के लिये

फ़रवरी 5, 2006 को 11:43 पूर्वाह्न | Uncategorized में प्रकाशित किया गया | 4 टिप्पणियाँ

कुंवारे प्रेमियों की (दुर्)गति पर ‘अनाम’ लखनवी ने लिखा है:
“ऐ ख़ुदा, ऐ रहनुमा कुछ इस तरह तरक़ीब कर
आशिक़ी के ग़म में बैठा यूँ कोई क्वांरा न हो”

Advertisements

4 टिप्पणियाँ »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. मेरे चिट्ठे पर ‘टिप्पणी’ छोडनें के लिये धन्यवाद. तुम्हारी ई-मेल नहीं मिल सकी इसलिये यहाँ लिख रहा हूँ । यदि समय मिले और चाहो तो यहाँ लिख सकते हो :
    anoop_bhargava@yahoo.com

    अनूप

  2. वाह वाह

    ये तो मेरे दिल से निकली हुयी आवाज है 🙂

  3. अनूप जी..आजकल बहुत व्यस्त चल रहा हूं..किसी दिन मुलाक़ात का प्लान बनाते हैं..प्लेंस्बोरो तो कई बार आया गया हूं..
    .एक दिन मेल करता हूं आपको।

    आशीष..धन्यवाद…वैसे इस शेर की प्रेरणा आपके चिट्ठे की कहानी से ही मिली है 🙂 …आगे लिखा के नहीं?

  4. Hello Aup,

    don’t know if this is the right way to approach you but I wanted to start a hindi blog of my own and cudn’t get to start it. Could u plz help me. I tried searching on blogspot a lot but of no avail.

    Changed the formatting to Hindi but how to display and write the blog in hindi. Thanks in advance if u choose to help me out.


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: