ग़ज़ल

अप्रैल 12, 2007 को 12:51 पूर्वाह्न | Posted in ग़ज़ल | 11 टिप्पणियाँ

हम खड़े तकते रहे इन आशियानों पर क़हर

ख्वाब सारे जल गए पर ना पड़ी उसकी नज़र

दूसरों के दर्द को भी देख आंखें न हों नम

ऐ ख़ुदा नाचीज़ को इस तू न दे ऐसा हुनर

निगल जाए जो कि खुद ही हर किनारे को

इस समंदर में हमें ना चाहिये ऐसी लहर

पहुंच कर मंज़िल पे धोख़ा दे दिया रहबर ने यूं

‘ज़श्न’ लुटता क़ारवां और सो रहा सारा शहर

Advertisements

11 टिप्पणियाँ »

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

  1. बहुत खूब गजल लिखने के लिये बधाई
    पहुंच कर मंज़िल पे धोख़ा दे दिया रहबर ने यूं
    ‘ज़श्न’ लुटता क़ारवां और सो रहा सारा शहर

    बहुत अच्छे भाव और सहज अभिव्यक्ति

  2. very nice.

  3. दूसरों के दर्द को भी देख आंखें न हों नम

    ऐ ख़ुदा नाचीज़ को इस तू न दे ऐसा हुनर

    आप ने दूसरों का दर्द मह्सूस किया यह इन्सानियत की सबसे बडी खूबी है…
    सुन्दर गजल… मुबारक हो

  4. bahut khoob likha hai ji ..

  5. योगेश, मोहिन्दर , रत्ना एवं रंजना जी: हौसला आफ़ज़ाई के लिये आप सब का शु्क्रिया! खुशी हुई जानकर कि आप को कुछ शेर पसंद आए। आगे भी ऐसी ही कोशिश रहेगी!

  6. ham khare takte rahe in aasiano par kahar
    and
    jashn lutata karwan aur so raha sara shahar

  7. kamal hai ji .
    kya farmaya hai apne ………
    kuch aur bhi arz karte hain kya ………..
    dusron ka dard samajhane ka jo tarika hai .
    ji wo bemisal hai …………
    mubarak ho ji ………..
    yuhi likhte rahiye
    ……..

  8. kya bakwas hai ji ye .
    ….kuch achcha khoja rahe the hum net pe .
    kya kya padhne ko mil raha hai ……..
    ye sab likhna hai to apni personal diaries me likha kijiye ………..

  9. kya gand likha hai yar .
    tum aisa karo kalam chodo aur aur kam kaj pe dhyan do zara ………
    sajhe bahut ho gaya ye tumhara shayrana mijaz………
    ab aur nahi jhela jata ,,,,

  10. aap ne bahut achee bhav likhe hain thanks

  11. nice gagal bhai ji wah wah


एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

WordPress.com पर ब्लॉग.
Entries और टिप्पणियाँ feeds.

%d bloggers like this: