ग़ज़ल

अप्रैल 12, 2007 को 12:51 पूर्वाह्न | Posted in ग़ज़ल | 11 टिप्पणियाँ

हम खड़े तकते रहे इन आशियानों पर क़हर

ख्वाब सारे जल गए पर ना पड़ी उसकी नज़र

दूसरों के दर्द को भी देख आंखें न हों नम

ऐ ख़ुदा नाचीज़ को इस तू न दे ऐसा हुनर

निगल जाए जो कि खुद ही हर किनारे को

इस समंदर में हमें ना चाहिये ऐसी लहर

पहुंच कर मंज़िल पे धोख़ा दे दिया रहबर ने यूं

‘ज़श्न’ लुटता क़ारवां और सो रहा सारा शहर

Advertisements

एक और ग़ज़ल

अगस्त 2, 2006 को 9:49 अपराह्न | Posted in ग़ज़ल | 1 टिप्पणी

चलिये, एक और झेलिये –

किया था जिसने वादा के चलेगा साथ मंज़िल तक

आज वो हमसफ़र नहीं दिखता

जिसके साए में नींद आ जाए

इधर अब वो शज़र नहीं दिखता

क़त्ल कितने भी होते रहते यूं ही आज दुनिया में

पर कोई चश्मे-तर नहीं दिखता

नज़रंदाज़ जैसा कर रहा है वो मगर मेरे

इश्क़ से बेख़बर नहीं दिखता

न जाने क्या कमी-सी रह गई मेरी इबादत में

दुआओं का असर नहीं दिखता

जाने कितनी मंज़िलें आईं-गयीं हैं पर

ख़त्म होता सफ़र नहीं दिखता 

फ़तह  हासिल  जो करले ताक़ पर रख कर उसूलों को

‘ज़श्न’ मे वो हुनर नही दिखता

ग़ज़ल

जुलाई 23, 2006 को 9:23 अपराह्न | Posted in नया-नवेला, ग़ज़ल | 6 टिप्पणियाँ

जलता रहने दे इन चराग़ों को
अँधेरों का हिसाब बाक़ी है

रात ये खत्म नहीं होती है
दीद-ए-माहताब (१) बाक़ी है

कुछ भी खोने का तू ग़म मत कर
क़त्ल-ए-क़ायनात बाक़ी है

ज़ुल्म तेरे नहीं चल पाएँगे
जहाँ में इंक़िलाब बाक़ी है

फ़िज़ाँ में अब तलक खुशबू सी है
चमन में एक गुलाब बाक़ी है

कहते हैं लोग के बदी (२)मत देख
हम में होशो-हवाश बाक़ी है

खेल ये ख़त्म यूँ नहीं होगा
अभी अपना ज़वाब बाक़ी है

कुछ भी कह मुझको बेवफ़ा मत कह
अभी वो ही ख़िताब बाक़ी है

बचा के रख तू आबरू अपनी
अभी तेरा रुआब बाक़ी है

कहता रह दास्तान ये अपनी
इश्क़ की इक किताब बाक़ी है

‘ज़श्न’ मत तोड़ अभी पैमाना
बोतलों में शराब बाक़ी है

(१)- चाँद का दिखना
(२)- बुराई

वर्डप्रेस (WordPress.com) पर एक स्वतंत्र वेबसाइट या ब्लॉग बनाएँ .
Entries और टिप्पणियाँ feeds.